Posted on Leave a comment

मच्छर काटना तो दूर आपके पास भी नहीं आ पाएंगे, मात्र 1 मिनिट में मच्छर भगाये

मच्छर काटना तो दूर आपके पास भी नहीं आ पाएंगे, मात्र 1 मिनिट में मच्छर भगाये

गर्मियों का मौसम आते ही सबसे बड़ी समस्या जो सामने आती है वह है मच्छरों की समस्या। गर्मियों में मच्छर इतने ज्यादा होते हैं कि वह हमें बहुत परेशान करते हैं। मच्छरों के कारण गर्मियों के मौसम में डेंगू नामक घातक बीमारी होती है। बहुत सारे लोग मच्छरों को मारने के लिए बाजार में आने वाले प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते हैं लेकिन उनका भी कोई असर नहीं होता है इसलिए आज हम आपको मच्छरों को मारने के लिए एक ऐसा उपाय बताएंगे जिससे आपको मच्छरों से पूर्ण रुप से सुरक्षा मिल जाएगी।

हमारे देश में बहुत सारी औषधियां ऐसी हैं जिनका इस्तेमाल कर हम किसी भी तरह की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। आज हम आपको एक ऐसे पत्ते के बारे में बताएंगे जिसका इस्तेमाल कर आप अपने कमरे के सारे मच्छरों को खत्म कर सकते हैं । जिस पत्ते की हम बात कर रहे हैं उसे तेजपत्ता के नाम से जाना जाता है ।

तेजपत्ता मधुमेह, अल्ज़ाइमर्स, बांझपन, खांसी जुकाम , जोड़ो का दर्द, रक्तपित्त, रक्तस्त्राव, दाँतो की सफाई, सर्दी जैसे अनेक रोगो में उपयोगी है। ये हमेशा हरा रहने वाले पेड़ तमाल वृक्ष के पत्ते हैं इसको तमालपत्र, तेज पात या तेजपत्ता कहते हैं। तेजपात मसाले के रूप में बहुतायत में काम लेते हैं।

यह सिक्किम, हिमालय, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश में पैदा होते हैं। तेजपात पेड़ से पत्ते तोड़कर धुप में सुखाकर पंसारी की दुकानो पर बेचे जाते हैं। तेजपत्ता में दर्दनाशक, एंटी ऑक्सीडेंट गुण हैं। तेजपत्ता मधुर, कुछ तीक्षण, उष्ण, चिकना, तैलीय होता हैं। वात, कफ नाशक और पाचक होता हैं। आयुर्वेद में अनेक गंभीर रोगो में इसके उपयोग किये जाते हैं। आइये जाने।

इस पत्ते को जलाने से दोबारा कभी भी मार्टिन जलाने की जरूरत नहीं पड़ेगी, तेजपत्ता हमारे देश में लगभग हर घर में मिल जाता है । कमरे के मच्छरों को मारने के लिए सबसे पहले चार तेजपत्ता लें, इन्हें घर के चार कोनों में जलाकर छोड़ दें और 15 मिनट के लिए कमरे के सभी दरवाजे और खिड़कियां बंद कर दें । 15 मिनट के बाद जब आप कमरे में जाएंगे तो आप देखेंगे कि कमरे के सभी मच्छर मर कर कर नीचे गिरे हुए हैं । इन पत्तों को जलाने को जलाने से जो धुआं निकलता है वह मच्छरों के लिए बहुत घातक होता है इसलिए इससे सारे मच्छर मर जाते हैं । इस पत्ते को जलाने के बाद आपके कमरे में दोबारा मच्छर नहीं आएंगे

सोने से पहले कमरे में जलाएं केवल 1 तेज पत्ता, सिर्फ़ 15 मिनट में आपको जो फ़ायदा होगा जिसकी आपने कभी कल्पना नही की होगी

रात को अच्छी नींद सोना है तो ज़रूरी है आपको किसी तरह का कोई तनाव न हो। आपका मन शांत हो। आप सुकून महसूस करें। लेकिन अमूमन ये हो नहीं पाता। दिनभर चाहे आप दफ्तर में रहें, कॉलेज जाएं या घर के कामों में उलझे रहें… तनाव हो ही जाता है। तनाव यानी स्ट्रेस। ये तनाव आपको रात को सोने नहीं देता। ये आपको मानसिक और शारीरिक तरीके से नुकसान पहुंचाता है। अगर आप छोटी सी कोशिश करें तो तनाव को मिनटों में दूर कर सकते हैं।

इसके लिए आपको ज्यादा कुछ नहीं बस एक तेज़ पत्ता चाहिए। तेज़ पत्ता हर किसी की किचन में बड़े ही आराम से मिल जाता है। ये सिर्फ 5 मिनट में आपके तनाव को दूर करने की क्षमता रखता है। एक रशियन साइंटिस्ट ने इस पर स्टडी की और पाया कि यह हमारे तनाव को दूर कर सकता है। यही वजह है कि तेज पत्‍ते को अरोमाथैरेपी के लिये इस्‍तेमाल किया जाता है। इसके अलावा, तेज़ पत्ता यह त्‍वचा की बीमारियों और सांस से संबन्‍धित समस्‍याओं को भी ठीक करने के लिये जाना जाता है।

कैसे करें इस्तेमाल

एक तेज पत्ता लें और उसे किसी कटोरी या एैशट्रे में जला लें। अब इसे कमरे के अंदर लाकर 15 मिनट के लिए रख देंगे। आप पाएंगे कि तेज पत्‍ते की खुशबू पूरे कमरे में भर जाएगी। साथ ही आपको कमरे का माहौल काफी सुकून वाला लगेगा। ये आपको स्पा एक्सपीरियेंस देगा। कुछ देर इस कमरे में रिलेक्स होकर बैठ जाएं, आपको अपने अंदर सुकून बहता हुआ महसूस होगा और आपका तनाव कम होने लगेगा।

विभिन्न रोगों में उपचार (Treatment of various diseases)

सर्दी-जुकाम : चाय पत्ती की जगह (स्थान) तेजपात के चूर्ण की चाय पीने से छीकें आना, नाक बहना, जलन, सिर दर्द दूर होता है। तेजपात की छाल 5 ग्राम और छोटी पिप्पली 5 ग्राम को पीसकर 2 चम्मच शहद के साथ चटाने से खांसी और जुकाम नष्ट होता है। 1 से 4 ग्राम तेजपत्ता के चूर्ण को सुबह और शाम गुड़ के साथ खाने से धीरे-धीरे जुकाम ठीक हो जाता है।

सिर की जुंए : तेजपात के 5 से 6 पत्तों को 1 गिलास पानी में इतना उबालें कि पानी आधा रह जाये और इस पानी से प्रतिदिन सिर में मालिश करने के बाद स्नान करना चाहिए। इससे सिर की जुंए मरकर निकल जाती हैं।

आंखों के रोग : तेजपत्ते को पीसकर आंख में लगाने से आंख का जाला और धुंध मिट जाती है। आंख में होने वाला नाखूना रोग भी इसके प्रयोग से कट जाता है।

रक्तस्राव (खून का बहना) : नाक, मुंह, मल व मूत्र किसी भी अंग से रक्त (खून) निकलने पर ठंडा पानी 1 गिलास में 1 चम्मच पिसा हुआ तेजपात मिलाकर हर 3 घंटे के बाद से सेवन करने से खून का बहना बंद हो जाता है।

दमा (श्वास) : तेजपात और पीपल को 2-2 ग्राम की मात्रा में अदरक के मुरब्बे की चाशनी में छिड़ककर चटाने से दमा और श्वासनली के रोग ठीक हो जाते हैं। सूखे तेजपात का चूर्ण 1 चम्मच की मात्रा में 1 कप गरम दूध के साथ सुबह-शाम को प्रतिदिन खाने से श्वास और दमा रोग में लाभ मिलता है।

खांसी : लगभग 1 चम्मच तेजपात का चूर्ण शहद के साथ सेवन करने से खांसी ठीक हो जाती है।
तेजपात की छाल और पीपल को बराबर मात्रा में पीसकर चूर्ण बनाकर उसमें 3 ग्राम शहद मिलाकर चाटने से खांसी में आराम मिलता है। तेजपात (तेजपत्ता) का चूर्ण 1 से 4 ग्राम की मात्रा सुबह-शाम शहद और अदरक के रस के साथ सेवन करने से खांसी ठीक हो जाती है

तेजपात (तेजपत्ता) की छाल का काढ़ा सुबह तथा शाम के समय में पीने से खांसी और अफारा दूर हो जाता है। 60 ग्राम बिना बीज का मुनक्का, 60 ग्राम तेजपात, 5 ग्राम पीपल का चूर्ण, 30 ग्राम कागजी बादाम या 5 ग्राम छोटी इलायची को एकसाथ पीसकर बारीक चूर्ण बना लें। इसके बाद इस चूर्ण को गुड़ में मिला दें। इसमें से चुटकी भर की मात्रा लेकर दूध के सेवन करने से खांसी आना बंद हो जाता है।

अफारा (पेट फूलना) : तेजपत्ते का काढ़ा पीने से पसीना आता है और आंतों की खराबी दूर होती है जिसके फलस्वरूप पेट का फूलना तथा दस्त लगना आदि में लाभ मिलता है। तेजपात का चूर्ण 1 से 4 ग्राम की मात्रा सुबह और शाम पीने से पेट में गैस बनने की शिकायत दूर होती है।

पीलिया और पथरी : प्रतिदिन पांच से छ: तेजपत्ते चबाने से पीलिया और पथरी नष्ट हो जाती है।

गर्भाशय का ढीलापन : गर्भाशय की शिथिलता (ढीलापन) को दूर करने के लिए तेजपात का प्रयोग करना चाहिए। तेजपात का चूर्ण 1 से 4 ग्राम सुबह-शाम सेवन करने से शिथिलता (ढीलापन) दूर हो जाती है। यदि गर्भाशय के शिथिलता (ढीलापन) के कारण गर्भपात हो रहा हो तो यह शिकायत भी इसके प्रयोग से दूर हो जाती है।

संधिवात (जोड़ों के दर्द) : तेजपत्ते को जोड़ों पर लेप करने से संधिवात ठीक हो जाता है।

स्तनों को बढ़ाने के लिए : तेजपात का चूर्ण सुबह तथा शाम सेवन करने से स्तनों के आकार में वृद्धि होती है। तेजपात का तेल किसी अन्य तेल में मिलाकर उससे स्तनों की मालिश सुबह तथा शाम को करने से स्तन के आकार में वृद्धि होती है।

सिर का दर्द : लगभग 10 ग्राम तेजपात को पानी में पीसकर माथे पर लेप करने से ठण्ड या गर्मी के कारण होने वाला सिर दर्द में आराम मिलता है। तेजपात की शाखा का छिलका निकालकर उसको पीसकर कुछ गर्म कर लें और इसे माथे के आगे के भाग में लेप की तरह लगाने से सिर का दर्द दूर हो जाता है।

बांझपन : बांझपन तथा गर्भपात की समस्या से पीड़ित स्त्री को तेजपात का चूर्ण चौथाई चम्मच की मात्रा में 3 बार पानी के साथ प्रतिदिन सेवन कराएं। इससे कुछ महीने गर्भाशय की शिथिलता दूर होकर बांझपन तथा गर्भपात की समस्या दूर हो जाती है।

निमोनिया : तेजपात, नागकेसर, बड़ी इलायची, कपूर, अगर, शीतल चीनी तथा लौंग सभी को मिलाकर तथा काढ़ा बनाकर सुबह-शाम पीने से लाभ मिलता है।

हकलाना, तुतलाना : रुक-रुक कर बोलने वाले या हकलाने वाले व्यक्ति को तेजपात जीभ के नीचे रखकर चूसना चाहिए इससे हकलाना तथा तुतलाना दूर होता है।

कमर का दर्द : 10 ग्राम अजवायन, 5 ग्राम सौंफ तथा 10 ग्राम तेजपात इन सब को कूट-पीसकर 1 लीटर पानी में उबालें। जब यह 100 ग्राम रह जाए तब इसे ठंडा करके पीएं इससे शीत लहर के कारण उत्पन्न कमर का दर्द ठीक हो जाता है।

मोच : तेजपात और लौंग को एक साथ पीसकर बना लेप बना लें। इस लेप को मोच वाले स्थान पर लगाएं इससे धीर-धीरे सूजन दूर हो जाती है और मोच ठीक हो जाता है।

मधुमेह (शूगर) का रोग : तेजपात के पत्तों का चूर्ण 1-1 चुटकी सुबह, दोपहर तथा शाम को ताजे पानी के साथ सेवन करने से मधुमेह रोग ठीक हो जाता है।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने Whatsapp और Facebook पर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *